11

आरोपी के ऊपर 22 साल पहले चोरी का मुकदमा दर्ज हुआ था जिसके बाद से यह फरार चल रहा था। अब आरोपी की उम्र 70 साल हो गई है। यानी आरोपी ने 48 साल की उम्र में चोरी की घटना को अंजाम दिया था। जिसके बाद वह राजस्थान चला गया था जहां से पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है।

आरोपी का नाम फजरू है, जो दिल्ली में अपने साथी दीनू के साथ मिलकर एक चोरी की घटना को अंजाम दिया था। अदालत ने  आरोपी फजरू और उसके साथी दीनू को 22 साल पहले ही भगोड़ा घोषित कर दिया था।

गिरफ्तारी के बारे में जानकारी देते हुए डीसीपी डॉ. ईश सिंघल ने कहा कि मंदिर मार्ग थानाध्यक्ष विक्रमजीत सिंह के नेतृत्व में आरोपित फजरू को बीते मंगलवार को राजस्थान के अलवर जनपद के छोपंकी थाने के बहादुरी गांव से आरेस्ट किया गया। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि फजरू ने दीनू व एक अन्य साथी के साथ मिलकर साल 1989 में अंबेडकर नगर में चोरी की वारदात को अंजाम दिया था। ये लोग दुकान का शटर तोड़कर महंगे कपड़े और बड़ी मात्रा में नकदी उड़ा ले गए थे।

हालांकि, अंबेडकर नगर थाना पुलिस ने उस समय फजरू व अन्य साथियों को गिरफ्तार कर लिया था। उसके कब्जे से चुराए गए कपड़े भी बरामद कर लिए गए थे। जमानत पर रिहा होने के बाद फजरू कभी कोर्ट में पेश नहीं हुआ। कोर्ट ने उसे 4 जून, 1998 को भगोड़ा घोषित कर दिया था। पुलिस के मुताबिक, फजरू चोर होने के साथ ही एक शातिर सेंधमार भी था। वह गौवंश की भी चोरी करता था। हरियाणा व राजस्थान पुलिस उसे कई बार गिरफ्तार भी कर चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here