7

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते हुए मामलों पर लगाम लगाने में राज्य सरकार अब तक विफल रही है। उद्धव सरकार ने पिछले दिनों सख्ती दिखाते हुए कई कड़े कदम उठाये तो हैं लेकिन हालात सुधरने के बजाय बिगड़ते जा रहे हैं। संक्रमण की वजह से बेकाबू होते हालात देखते हुए सीएम उद्धव ठाकरे आज प्रदेश के सभी जिलों के डीएम के साथ मीटिंग करने वाले हैं। इस बैठक में वो बढ़ते संक्रमण पर अब तक लिए फैसलों की समीक्षा करेंगे। इसके साथ ही सभी अधिकारियों से सुझाव भी लेंगे। राज्य में कोरोना बेकाबू हो चुका है और माना जा रहा है कि उद्धव सरकार लॉकडाउन को लेकर आज बड़ा फैसला कर सकती है।

पूर्ण राज्य में सरकार भले न लगाए लेकिन उन जिलों में लॉकडाउन जरूर लगाया जा सकता है, जहां संक्रमण के मामले सबसे ज्यादा सामने आ रहे हैं। आज से बीड जिले में लॉकडाउन लगा दिया गया है जो चार अप्रैल तक चलेगा। वहीं नागपुर में भी एक सप्ताह (15 से 21 मार्च )का पूर्ण लॉकडाउन लगा था। संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए राज्य के डिप्टी सीएम अजित पवार का कहना है कि लोग अगर नहीं माने और संक्रमण के मामले कम नहीं हुए तो लॉकडाउन का निर्णय लिया जा सकता है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि पूर्ण बंदी को लेकर कुछ जनप्रतिनिधियों में मतभेद हैं।

फिलहाल चर्चा जारी है। राज्य के पुणे, मुम्बई, नागपुर सहित अन्य जिलों में बिगड़ते हुए हालात को देखते हुए सीएम उद्धव ठाकरे को अजीत पवार ने रिपोर्ट दी है। गौरतलब है कि उद्धव की पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य ठाकरे कोरोना संक्रमित हैं। पिछले 24 घंटे में राज्य में संक्रमण के 35 हज़ार से ज्यादा मामले सामने आये हैं। पिछले तीन दिनों में ही राज्य में 1 लाख से ज्यादा मामले संक्रमण के आ चुके हैं। कोरोना की इस रफ्तार ने राज्य सरकार को तुरंत सख्त कदम उठाने को मजबूर कर दिया है। देश के 60 प्रतिशत संक्रमण के मामले सिर्फ महाराष्ट्र में ही सामने आ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here