16

इस दौरान वरिष्ठ फाइटर पायलट ग्रुप कैप्टन राठी ने बताया कि नाइट ऑपरेशन अचानक होता है। भारतीय वायुसेना किसी भी परिस्थिति में आधुनिक प्लेटफार्म और अपने उत्साही जवानों की मदद से ऑपरेशन के पूरी तरह से प्रशिक्षित और तैयार है।। आपको बता दें कि भारतीय वायु सेना का एक एएन-32 परिवहन विमान उत्तराखंड के चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी पर लैंड कराया गया।

इसके अलावा भारत-चीन सीमा के पास एक फॉरवर्ड एयरबेस पर चिनूक हेलीकॉप्टर से रात में ऑपरेशन किया गया। इससे इतर भारतीय वायु सेना के मिग-29 लड़ाकू विमानों ने भारत-चीन सीमा के पास एक फॉरवर्ड एयरबेस पर नाइट ऑपरेशन किया। साथ ही सीमा के पास अपाचे ने भी रात में अपना जौहर दिखाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here