16

गौरतलब है कि आईजी रेंज कानपुर ने कहा कि फरीदाबाद में विकास को छिपने में तीन लोगों ने सहायता की थी, जिन्हें कल गिरफ्तार कर लिया गया था। प्रभात मिश्रा भी उनमें से एक था। दो आरोपी श्रवण और अंकुर को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेजा गया था, जबकि कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद आरोपी प्रभात उर्फ कार्तिकेय मिश्रा को उत्तर प्रदेश पुलिस के हवाले किया जाना था।

इसी वजह से उसे फरीदाबाद से कानपुर लेकर आ रहे थे। आईजी रेंज कानपुर ने कहा कि प्रभात ने रास्ते में ही पुलिस के चकमा देकर भागने का प्रयास किया जिसकी वजह से उसका एनकाउंटर किया गया। वहीं एक अन्य एनकाउंटर में विकास का साथी रणबीर शुक्ला भी मारा गया है। पुलिस ने इटावा के बकेवर थाना क्षेत्र में उसका भी एनकाउंटर किया। रणबीर अपने तीन अन्य साथियों के साथ एक एक स्विफ्ट डिजायर कार को लूटकर भागने की कोशिश में था।

इसी दौरान कचौरा रोड पर पुलिस ने उन्हें रुकवाया तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी गोली चलाई जिसमें रणबीर उर्फ बव्वन शुक्ला भी मारा गया। हालांकि उसके तीन साथी भागने में कामयाब रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here