10

13 जुलाई को सावन का दूसरा सोमवार है, आइये जानते हैं कि, सोमवार व्रत की सम्पूर्ण विधि के बारे में। सावन के दौरान सोमवार का व्रत सूर्योदय से लेकर तीसरे प्रहर तक किया जाता है। सोमवार के दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाना काफी ज्यादा शुभ माना गया है। ऐसा करने वाले भक्त की मनोकामनाएं जल्द पूर्ण होती हैं। व्रत के दौरान घर के सभी काम पूरे करके स्नान कर लें।

मंदिर में शिवजी की मूर्ति के समक्ष सभी सामग्री लेकर बैठ जाएं। व्रत का संकल्प लें। शिव के साथ माता पार्वती की भी पूजा करें। पूजन सामग्री में पंचामृ्त, दक्षिणा चढाया जाता है। पूजा के दौरान मंदिर में पूजा से जुड़ी सभी जरुरी सामग्री लेकर बैठे। इसमें आप जल, दुध, दही, चीनी, घी, शहद, जनेऊ, चन्दन, रोली, चावल, गट्ठा, प्रसाद, पान-सुपारी, लौंग, इलायची, मेवा, मोली, वस्त्र,फूल, बेल-पत्र, भांग, आक-धतूरा, कमल, पंचामृत और दक्षिणा जरूर चढ़ाए। पूजा के दौरान स्थल से बार बार उठना शुभ नहीं होता है। इसलिए जब भी पूजा में बैठने से पूर्व सभी जरुरी सामग्री चेक कर लें।

जिसके बाद भगवान शिव की प्रतिमा के सामने व्रत का संकल्प लें और शिव माता पार्वती की भी पूजा करें। सोमवार के दिन भगवान शिव की आरती कपूर से दीपक जलाकर करें। व्रत कथा का पाठ करें और शिव मंत्रों का जाप करें। व्रत खत्म होने के बाद एक बार भोजन करे। व्रत वाले दिन रात में जमीन पर ही सोये। व्रत में अगर कुछ बनाकर खाते है तो उसमे सेंधा नमक का ही इस्तेमाल करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here