8

पुलिस पूरी छूट के बावजूद भी बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दूबे को पकड़ पाने में नाकाम रही। इतना ही नहीं मध्य प्रदेश पुलिस के पकड़ने के बावजूद भी कोर्ट तक उसे नहीं पहुंचा पाई। नाकामी का आलम यह रहा कि जो अपराधी चिल्ला—चिल्ला कर अपना नाम बताते हुए गिरफ्तार हुआ था वह यूपी पुलिस की गिरफ्त से भागने की कोशिश में मार दिया गया। इस दौरान मजेदार बात यह रही कि यूपी पुलिस भले ही विकास दुबे का गिरफ्तार नहीं कर पाई लेकिन उसके ऊपर इनाम राशि ऐसे रोजाना बढ़ा रही थी जैसे वह दाऊद से बड़ा अपराधी रहा हो। देखते ही देखते इनाम की राशि पांच लाख हो गई। योगी सरकार ने अब उसके भाई दीप प्रकाश दुबे पर 20,000 रुपए इनाम राशि का एलान किया है।

गौरतलब है कि योगी सरकार ने मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश दुबे पर 20,000 रुपये के इनाम की घोषणा की है। दीप प्रकाश 3 जुलाई से फरार चल रहा है। पुलिस सूत्रों के अनुसार दीप प्रकाश अपने भाई विकास दुबे की गतिविधियों से वाकिफ था और उसके गैरकानूनी कामों में शामिल था। राजधानी लखनऊ के कृष्णा नगर में अपने परिवार के साथ रहने वाला दीप प्रकाश बिकरू गांव गोलीकांड के बाद से फरार है। एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि अगर दीप प्रकाश हमारे हाथ लगता है, तो हम उससे विकास दुबे से जुड़े लिंक और शूटआउट के बारे में काफी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

बता दें कि इस कांड के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने पुलिस को हर हाल में पकड़ने की पूरी छूट दे दी थी। इस दौरान विकास दुबे के ही बुल्डोजर से उसका घर ढहा दिया गया। उसके कई साथियों को एनकाउंटर में मार दिया गया। लेकिन यूपी पुलिस विकास दुबे को नहीं पकड़ सकी। घटना हुए 15 दिन से अधिक का समय बीत गया है लेकिन पुलिस विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश को पकड़ पाने में नाकाम साबित रही है। ऐसे में योगी सरकार का 20,000 का इनाम राशि घोषित करना यूपी पुलिस की विफलता पर पर्दा डालने जैसा ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here