7

अमेरिका लगातार कोरोना महामारी को लेकर चीन पर हमला बोल रहा है। अब इन सबके बीच अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने विश्व के सबसे बड़े वैश्विक संस्थान WHO पर हमला बोलते हुए कहा कि चीन ने डब्लूएचओ और उसके प्रमुख को खरीद लिया है, इसलिए तो कोरोना वायरस पूरे विश्व में फैल गया और तमाम संस्थाएं इस पर अंकुश लगाने की दिशा में नाकाम साबित हुई है। उधर, ब्रिटिश अखबार द टेलीग्राफ के मुताबिक इस महामारी के संदर्भ मेंं विदेशी मंत्री माइक पोंपियो ने डब्लूचओ प्रमुख टेड्रोस एडहैनम घेब्रियेसुस पर निशाना साधते हुए कहा कि टेड्रोस और चीन के बीच बहुत बड़ी डील हुई है। इसी डील की वजह से पूरा विश्व कोरोना के कहर से त्राहि-त्राहि कर रहा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन अपने लगे इस तरह के आरोपों से अपना बचाव करती हुई नजर आ रही है। संगठन का कहना है कि यह आरोप पूरी तरह से बेबुनियादी और आधारहीन है।  इनका तथ्यों से कोई लेना-देना नहीं है, लिहाजा सभी देश इन आरोपों पर ध्यान देने की जगह इस महामारी से निजात पाने पर अपना ध्यान दें, ताकि आगे चलकर स्थिति दुरूस्त हो सके । वहीं विदेशी मंत्री यही नहीं थमे। उन्होंन जुबानी हमलों के तरकश से तीर निकालते हुए कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अब वैज्ञानिक संस्था नहीं रह गई है।

अब यह एक राजनैतिक संस्था बन चुकी है। डब्लूएचओ के प्रमुख ने यह डील चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए की है। गौरतलब है कि अभी भारत सहित शेष विश्व में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। उधर, अगर बात अमेरिका की करें तो यहां पर स्थिति दिन व दिन गंभीर होती जा रही है। लगातार बढ़ते संक्रमण के मामले अब यहां पर चिंताजनक बने हुए हैं, तो अमेरिका द्वारा चीन सहित डब्लूएचओ पर जुबानी हमला करना जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here