10

भारतीय सेनाओं (Indian Army) ने काम बड़ी ही बारीकी और शानदार रणनीति के तहत किया। एक तरफ, भारतीय सेनाओं ने आतंकवादियों के द्वारा कब्जा किए हुए जगह पर उतरकर T-90 टैंक और BMP के कवर फायर के बीच कार्रवाई की। वहीं, दूसरी तरफ रूसी सेना (Russian Army) ने आक्रामक गोलीबारी कर दुश्मनों को धूल चटाई।

दरअसल, आतंकवादियों ने बबीना छावनी के 40-50 भवनों वाले एक इलाको को कब्जा कर लिया था जहां उन्होंने कुछ नागरिकों को भी बंधक बनाया हुआ था। इस दौरान आंतकियों के पास भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद भी मौजूद था। इसकी जानकारी मिलते ही दोनों देशों के सेनाओं को शनिवार की सुबह लक्ष्य दे दिया गया था कि वह आतंकवादियों का खात्मा कर दे।

दोनों देशों की सेनाओं ने रणनीति बनाकर बंधक बनाए गए आम नागरिकों को आंतकियों के चंगुल से सुरक्षित बाहर निकाला फिर आतंकियों का खात्मा कर दिया। इस युद्ध में सबसे पहले भारतीय सेना आगे गई, फिर रूसी सेना। सेनाओं की ये बहादुरी देख सर्जिकल स्ट्राइक की याद दिला देती है जब भारतीय सेना ने बहादुरी के साथ आतंकी कैंप में घुसकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया था।

भारतीय सेनाओं (Indian Army) ने काम बड़ी ही बारीकी और शानदार रणनीति के तहत किया। एक तरफ, भारतीय सेनाओं ने आतंकवादियों के द्वारा कब्जा किए हुए जगह पर उतरकर T-90 टैंक और इनफैंट्री कॉम्बैट व्हीकल (BMP) के कवर फायर के बीच कार्रवाई की। वहीं, दूसरी तरफ रूसी सेना (Russian Army) ने आक्रामक गोलीबारी कर दुश्मनों को धूल चटाई।

दरअसल, आतंकवादियों ने बबीना छावनी के 40-50 भवनों वाले एक इलाको को कब्जा कर लिया था जहां उन्होंने कुछ नागरिकों को भी बंधक बनाया हुआ था। इस दौरान आंतकियों के पास भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद भी मौजूद था। इसकी जानकारी मिलते ही दोनों देशों के सेनाओं को शनिवार की सुबह लक्ष्य दे दिया गया था कि वह आतंकवादियों का खात्मा कर दे।

दोनों देशों की सेनाओं ने रणनीति बनाकर बंधक बनाए गए आम नागरिकों को आंतकियों के चंगुल से सुरक्षित बाहर निकाला फिर आतंकियों का खात्मा कर दिया। इस युद्ध में सबसे पहले भारतीय सेना आगे गई, फिर रूसी सेना। burx आतंकियों का सरगना सफेद झंडा लहराता हुए खुद को सरेंडर करने का नाटक करते हुए गाड़ी से भागने की कोशिश करने लगा जिसे सूझबूझ के साथ सेनाओं ने मार डाला। सेनाओं की ये बहादुरी देख सर्जिकल स्ट्राइक की याद दिला देती है जब भारतीय सेना ने बहादुरी के साथ आतंकी कैंप में घुसकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here