10

इस संक्रमण ने अब आठ लाख 21 हजार से अधिक लोगों की जिंदगी को निगल चुका है। इस महामरी से निकालने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक वैक्सीन बनाने के काम में जुटे हुए हैं। इस बीच जापानी शोधकर्ताओं ने एक बड़ा ही आश्चार्य कर देने वाला दवा किया है। उनके मुताबिक ओजोन गैस की मदद से इस वायरस को खत्म किया जा सकता है। आइए जानते हैं इस शोध के बारे में। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, यह शोध जापान की फुजिता हेल्थ यूनिवर्सिटी में किया है। शोधकर्ताओं के अनुसार यह साबित हो चुका है कि कम घनत्व वाली ओजोन गैस (0.05 से 0.1 पीपीएम) से इस वैश्विक संक्रमण को खत्म किया जा सकता है।

आपको बता दें कि ओजोन ऑक्सीजन के तीन परमाणुओं से मिलकर बनने वाली एक गैस है, जो वायुमंडल में बहुत कम मात्रा (0.02 फीसदी) में पाई जाती है। यह तीखे गंध वाली अत्यंत विषैली गैस है। यह वायुमंडल की ऊपरी परत ओजोन परत के रूप में सूर्य के पराबैंगनी विकिरण से पृथ्वी पर जीवन को बचाती है। वैसे तो ओजोन गैस इंसानों के लिए बहुत नुकसानदेह होती है, लेकिन इसकी सबसे खास और अच्छी बात ये है कि ओजोन गैस की निम्न स्तर की मात्रा इंसानों के लिए सुरक्षित है।

फुजिता हेल्थ यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता ताकायुकी मुराता ने बताया कि इस वायरस के प्रसार को ओजोन गैसे के इस्तेमाल से कम किया जा सकता है। ताकायुकी मुराता के मुताबिक, ओजोन गैस के उपयोग से कोरोना वायरस पर जल्द काबू पाया जा सकता है। उनका कहना है कि 1-6 पीपीएम की उच्च सांद्रता पर यह गैस कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में प्रभावी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here