13
ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु को छाया ग्रह बताया गया है | इन ग्रहो का कोई भौतिक अस्तित्व नहीं होता है, इसीलिए इन्हे छाया ग्रह कहा जाता है | ये दोनों ही ग्रह जिस भी ग्रह के साथ बैठते है, उसके अनुसार ही अपना प्रभाव देने लगते है | हालांकि ऐसे कम ही मौके देखने को मिलते है, जब राहु केतु कुंडली में शुभ फल प्रदान कर रहे हो | वहीँ अशुभ दशा और महादशा में राहु केतु जातक का जीवन परेशानियों से भर देते है | ऐसे में यदि आपकी कुंडली में भी राहु केतु अशुभ दशा में है, तो हम आपको कुछ उपाय बताने जा रहे है | जो राहु केतु का दुष्प्रभाव खत्म कर सकते है |
कोई भी निर्णय लेने से पहले दो बार सोचे
 
 
राहु केतु जातक की सोचने समझने की शक्ति को प्रभावित करते है | ऐसे में कई बार जातक कुछ ऐसे फैसले ले लेते है, जिनकी वजह से पछताना पड़ता है | फैसले लेने में हुयी दुविधा बड़ी परेशानी खड़ी कर सकती है | इसीलिए राहु केतु की अशुभ दशा में कोई भी फैसला लेने से पहले दो बार अच्छे से सोच ले |
ना लाये ऐसे विचार
 
 
ज्योतिष के अनुसार राहु केतु की अशुभ दशा होने पर जातक नकारात्मकता से घिरने लगता है | उसे हर चीज में नकारात्मकता ही नजर आने लगती है | ऐसी स्थिति में हर किसी को कोशिश करनी चाहिए कि नकारात्मकता अपने पर हावी होने ना दे | यदि आपके साथ भी ऐसी स्थिति बन रही है, तो आप अपने इष्टदेव का जाप करे और धार्मिक किताब पड़े | ये आपके मन को शांति प्रदान करेंगे |
कामकाजी जिंदगी प्रभावित होने लगती है
 
 
राहु केतु प्रोफेशनल लाइफ को भी प्रभावित करते है | नौकरी मिलने में परेशानी या ऑफिस में किसी नयी परेशानी का पैदा होना | व्यवसाय में नयी नयी परेशानियां खड़ी होना | कामकाजी जिंदगी प्रभावित होने लगती है | ऐसे में आपको अपनी मेहनत पर भरोसा करने की जरूरत होती है | नया सीखने की कोशिश करनी चाहिए और अपने कार्यो को बेहतर ढंग से करने पर ध्यान देना चाहिए |
राहु केतु की अशुभ दशा से आती है ये शारीरिक समस्या
 
 
ज्योतिष के अनुसार राहु आंतो की क्रिया को प्रभावित करता है | इसीलिए राहु की अशुभ दशा होने पर पेट से जुडी समस्याएं होने लगती है | ऐसी स्थिति में जातक को अपने खानपान को लेकर सतर्क रहना चाहिए | सात्विक और सादा भोजन करना चाहिए | इस बात की अनदेखी पेट की समस्या को गंभीर समस्या में बदल सकती है | इसीलिए सदैव संयमित सादा भोजन ही करे |
इस खुशबू से दूर होगा राहु-केतु का दुष्प्रभाव
 
 
राहु केतु की अशुभ दशा से निपटने के लिए कई तरह के उपाय है | लेकिन इनमे सबसे आसान उपाय चंदन का है, जिसे हर कोई कर सकता है | चन्दन सभी पापी ग्रहो के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए जाना जाता है | आप बस राहु की अशुभ दशा होने पर घर में पूजा पाठ के दौरान चंदन की धुप बत्ती और अगरबत्ती का भी प्रयोग करे | आप परफ्यूम, साबुन और रूम फ्रेशनर भी चंदन की खुशबू वाले ही रखे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here