17

जॉनसन एंड जॉनसन कोरोना वैक्सीन की ट्रायल मानव पर कर रही थी। कोरोना वैक्सीन की ट्रायल रोकने के पीछे का कारण बताते हुए जॉनसन एंड जॉनसन ने कहा कि एक वॉलेंटियर में अस्पष्ट बीमारी के कारण परीक्षण को रोकना पड़ा है। कंपनी ने बताया कि कोरोना वैक्सीन की ट्रायल के दौरान एक शख्स के बीमार होने के बाद इसे रोकने का निर्णय किया गया। कंपनी ने ट्रायल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि टेस्ट में शामिल हर शख्स की सुरक्षा हमारी पहली जिम्मेदारी है लिहाजा कुछ दिन के लिए ट्रायल रोका जा रहा है।

कंपनी ने कहा कि वॉलेंटियर की बीमारी को कंपनी समझने की कोशिश कर रही है और कंपनी के क्लीनिकल और सुरक्षा से जुड़े डॉक्टर के अलावा स्वतंत्र डेटा मॉनिटरिंग बोर्ड मूल्यांकन कर रहे हैं। आपकी जनाकारी के लिए बता दें कि इससे पहले भी एक दावा किया गया था कि जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन उम्मीदवार में कोरोना वायरस के खिलाफ मजबूत इम्यून रिस्पॉन्स मिला है। यह दावा शुरुआती और मध्य दर्जे के मानव परीक्षण के बाद किया गया था।

सीएनएन के अनुसार, पहले दोनों चरणों के मानव परीक्षण के परिणाम काफी सहनशील बताया गया था। इतना ही इसके साथ यह भी बताया गया था कि उसके एक डोज से सभी 800 वॉलेंटियर पर मजबूत इम्यून रिस्पॉन्स पैदा हुआ। परीक्षण के अंतरिम नतीजे बताते हैं कि वैक्सीन डोज इम्यून रिस्पॉन्स पैदा करता है और सुरक्षित होने का भी पता चला। जिससे बड़े ग्रुप पर वैक्सीन उम्मीदवार के मानव परीक्षण को आगे किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here