10

रेप कांड में दोषी पाए गए पूर्व भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के परिवार को एक और बड़ा झटका लगा है। पार्टी ने पूर्व विधायक की पत्नी संगीता सिंह सेंगर का नाम जिला पंचायत चुनाव के लिए जारी प्रत्याशियों की सूची से हटा दिया है। इसके पहले आठ अप्रैल को जारी की गयी उम्मीदवारों की लिस्ट में संगीता सिंह को वॉर्ड नंबर 22 फतेहपुर चौरासी तृतीय से प्रत्याशी घोषित किया था। मालूम हो कि बीजेपी के पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर रेप केस में उम्र कैद की सजा काट रहा है।

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी की तरफ से गुरुवार को जारी की गई उम्मदीवारों की सूची में कई नए चेहरों को
जगह दी गयी है। पार्टी ने पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संगीता सेंगर को फतेहपुर चौरासी चतुर्थ से उम्मदीवार घोषित किया गया था। इनके अतिरिक्त बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष अविनाश चंद्र उर्फ आनंद आवस्थी को सिकंदरपुर सरोसी प्रथम से से उम्मदीवार घोषित किया गया है। नवाबगंज के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अरुण सिंह को औरास द्वितीय से मैदान में उतरा गया है।

अध्यक्ष के लिए होगा घमासान

आनंद अवस्थी को भी लिस्ट में शमिल किया गया है। यह पूर्व में उन्नाव सदर से विधानसभा सदस्य के लिए चुनाव लड़ चुके हैं। हालांकि उन्हें सफलता नहीं मिली थी। बता दें कि संगीता सिंह सेंगर बांगमरऊ उप चुनाव में भाजपा से टिकट मांग रही थी,लेकिन उनका टिकट काट दिया गया है। बीजेपी की तरफ से समर्थित उम्मीदवारों की सूची जारी होने के बाद अब यह सवाल तेजी से उठने लगा है कि अगला जिला पंचायत अध्यक्ष कौन होगा। माना जा रहा है कि अगर भाजपा समर्थित उम्मीदवारों की जीत हुई और वह बहुमत में आई तो अध्यक्ष के लिए जबरदस्त घमासान होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here