7

आज पूरा देश एक बहुत ही बड़े संकट से जूझ रहा है देश के हर राज्य में इस महामारी का प्रकोप तेजी से फैल रहा है लोगों का हाल बेहाल है अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं पर भी काफी बड़ा असर पहुंचा है लोगों को सही से इलाज नहीं मिल पा रहा है अस्पताल में बेड की कमी के साथ-साथ ऑक्सीजन की कमी भी हो रही है दूसरी तरफ इस महामारी से संक्रमित लोगों की जाने जा रही हैं जिस का आंकड़ा दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है ऐसे में मृतक शव का अंतिम संस्कार करने के लिए भी जगह कम पड़ गई है। श्मशान में जगह नहीं रह गई कि परिजन अपने शव का अंतिम संस्कार कर सकें।

देश की राजधानी दिल्ली में संक्रमण के नए मामलों के साथ इस सैकड़ों लोग करो ना चपेट में आकर अपना दम तोड़ रहे हैं। जिसकी वजह से श्मशान में शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए जगह नहीं बची। ऐसे हालात में मृतक शव का अंतिम संस्कार करने के लिए पार्क में व्यवस्था बनाई जा रही है। ऐसा नहीं है कि दिल्ली के सराय काले खां में श्मशान घाट नहीं है। श्मशान घाट तो है लेकिन रोजाना इतनी ज्यादा संख्या में मौतें हो रही हैं, कि वहां पर अंतिम संस्कार के लिए घंटो लाइन लगानी पड़ रही है। ऐसे में यह निर्णय किया गया है कि सराय काले खां के हरे भरे पार्क में जहां लोग सुबह मॉर्निंग वॉक और सुरेश हवा खाने आते हैं। अब वहां लोगों की चिताओं को अग्नि देने का इंतजाम किया जा रहा है।

पार्क में बन रहे प्लेटफार्म

सराय काले खां में पार्क में शव जलाने के लिए नए प्लेटफार्म तैयार किए जा रहे हैं फिलहाल यहां 20 प्लेटफार्म बनाए जा रहे हैं जबकि पाक के दूसरे साइड में 50 बेड फॉर्म तैयार किए जा रहे हैं प्लेटफार्म तैयार करने वाले ठेकेदार का कहना है कि ला से इतनी आ रही है कि शमशान घाट भी छोटा पड़ रहा है इसलिए यहां बनाया जा रहा है ठेकेदार ने यह भी बताया कि लाश जलाने के लिए जगह ही नहीं बल्कि लकड़ियां भी कम पड़ रही हैं कुछ लकड़ियां एमसीडी की तरफ से आ रही हैं तो कुछ कुछ का इंतजाम कहीं और से हो रहा है हालात काफी बिगड़ चुके हैं। ऐसे में कहीं से भी उम्मीद की एक किरण भी नहीं दिखाई दे रही है दुनिया तबाह होती दिखाई दे रही है।

इस महामारी की रोकथाम के लिए दिल्ली सरकार ने लगाए गए लॉकडाउन की समय सीमा को बढ़ा दिया है। अब अगले सोमवार 3 मई तक लॉकडाउन जारी रहेगा। आवश्यक काम के लिए ही बाहर निकल सकेंगे और अनावश्यक कामों के लिए भी सरकार अलग-अलग पास जारी करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here