18

अभी हाल ही में एक बात सुनी जा रही है कि भारतीय कानून प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 2024 का चुनाव लड़ने की इजाजत नहीं देता है. यह दावा कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता एंड्रिया डिसूजा उर्फ रिया ने अपने टि्वटर (Twitter) हैंडल अकाउंट से किया है. उनका कहना है कि 2024 में मोदी (Modi) का कार्यकाल समाप्त हो रहा है और इसके बाद वह कानूनन प्रधानमंत्री के तौर पर वापसी नहीं कर सकते. इस कांस्पीरेसी थ्योरी को हवा देने के साथ-साथ रिया ने यह भी पूछ लिया है कि बीजेपी का अगला पीएम चेहरा कौन होगा.

हालाँकि, एंड्रिया के दावे पूरी तरह से गलत हैं. भारत का संविधान किसी भी भारतीय नागरिक को देश का प्रधानमंत्री बनने का अधिकार देता है, बशर्ते वह व्यक्ति लोकसभा या राज्य सभा का सदस्य हो. इसके अलावा भारत में लोकसभा और राज्यसभा का सदस्य बनने के लिए न्यूनतम आयु क्रमशः 25 और 30 वर्ष निर्धारित है जो कि संविधान में दिया गया है.

हम आपको बता दें कि एक प्रधानमंत्री के तौर पर देश की सेवा करने की कोई सीमा नहीं है. इस परिप्रेक्ष्य में इन चीजों को इस तरह से समझा जा सकता है कि जवाहरलाल नेहरू स्वतंत्रता के ठीक बाद भारत के अंतरिम प्रधान मंत्री थे और उन्हें 1952, 1957 और 1962 के चुनावों में तीन बार फिर से चुना गया था.

हालाँकि, अमेरिका में ऐसी स्थिति नहीं है. वहां का कार्यकाल सीमित है. लेकिन हम आपको बता दें कि भारत अपने संविधान से चलता है न कि अमेरिकी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2024 का आम चुनाव भी लड़ सकते हैं और विजय हासिल करने पर तीसरे कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ भी ले सकते हैं. ऐसी स्थिति में जाहिर है कि एंड्रिया उर्फ रिया एक काल्पनिक कानून की बात कर रही हैं.

इस ट्वीट पर कुछ लोगों ने तो यहाँ तक ​​कह दिया कि अगर रिया और अमीबा के बीच (बुद्धि का) मुकाबला हुआ तो अमीबा जीत जाएगा.

ऐसे कठिन समय में रिया की बदौलत नेटिज़न्स को खुलकर हँसने का मौका मिला, इसके लिए उन्हें धन्यवाद दिया जाना चाहिए.

गौरतलब है किएंड्रिया उर्फ ​​रिया खुद को पूर्व आरजे और वीजे बताती है जो ज़ी टीवी में काम कर चुकी हैं. वह वर्तमान में भारतीय युवा कॉन्ग्रेस से जुड़ी हुई हैं. वह ‘कामसूत्र 3डी’ और ‘फॉर एडल्ट्स ओनली’ के साथ ही पाकिस्तानी धारावाहिक ‘माटी’ में भी काम कर चुकी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here