11

ऐसी हीं कहानी है दिल्ली की रहने वाली निहारिका भार्गव (Niharika Bhargava) की। उन्होंने अपने पिता के शौक को एक बिजनेस का रूप दे दिया और उससे आज करोड़ों का टर्नओवर कर रही हैं।

निहारिका को जल्द ही मिल गई नौकरी

निहारिका लंदन से मार्केटिंग स्ट्रेटेजी एंड इनोवेशन में मास्टर्स करने के बाद आज अचार बना रही है। रिपोर्ट के अनुसार जब साल 2015 में निहारिका लंदन से लौटी तो उन्हें जल्द ही नौकरी मिल गई। उन्हें गुड़गांव की एक मल्टीनेशनल कंपनी से जॉब का ऑफर आया जिसे उन्होंने ज्वॉइन कर लिया, परंतु ज्यादा दिन तक उन्होंने यह नौकरी नहीं किया।

पिता के शौक से आया निहारिका को बिजनेस का आईडिया

दरअसल निहारिका अपना खुद का बिजनेस शुरू करना चाहती थी। इस दौरान उन्होंने अपने पिता को अचार तैयार करते हुए देखा और इसी से उन्हें अपना बिजनेस शुरू करने का आईडिया आया। हालांकि पिता ने इस पर गौर ना करते हुए हंस कर बात को टाल दिया, लेकिन निहारिका अपने बात पर अटल रही। अपने आईडिया को हकीकत में बदलने के लिए वह अचार के मार्केट को लेकर अपनी रिसर्च भी शुरू कर दी और यह फैसला कर लिया कि वह अपने पापा के शौक को बिजनेस का रूप देगी।

अचार को मिला प्रदर्शनी में अच्छा रिस्पॉन्स

बिजनेस के शुरुआती दिनों में वह अपने पिता के हाथ के बनाए अचार को दिल्ली और उसके आसपास की प्रदर्शनी में लेकर गईं। जब वहां से अच्छा रिस्पॉन्स मिला तो निहारिका ने पूरे विश्वास से अचार लोकल मार्केट में उतार दी। इसी तरह धीरे-धीरे उनका बिजनेस आगे बढ़ने लगा। कुछ समय बाद निहारिका मध्यप्रदेश के खजुराहो में मौजूद अपनी एक खाली पड़ी जमीन पर अचार में लगने वाले सभी प्रोडक्ट तैयार करने लगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here