7

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमे खिलाड़ी मैच को जीतने के लिए अपना सबकुछ लगा देते हैं. अगर इसके बावजूद उनको हार मिले तो निराशा तो होगी हीं आज आपको ऐसे ही खिलाड़ियों के बारे में बताते हैं, जिनको मैच में मिली हार के बाद इनता निराश हो गएं कि रोने लगें.

1. विराट कोहली 

भारतीय कप्तान विराट कोहली साल 2012 के टी-20 विश्व कप में भारत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जित मिली थी, लेकिन विश्व कप से बाहर होना पड़ा इस कारण विराट कोहली मैदान में रोते हुए नजर आए थे.

विराट ऐसे ही टी-20 विश्व कप में वेस्टइंडीज से मिली हार के बाद निराश हो गए थे. विराट के खेल के प्रति जूनून देखेने लायक होता है. वो जीत के बाद ख़ुशी भी अलग अंदाज से मनाते है,लेकिन जब टीम को हार मिलती है तो वो हद से ज्यादा निराश भी हो जाते है.

2. बांग्लादेश के खिलाड़ी 

बांग्लादेश पहले से बहुत मजबूत टीम बन गई है, लेकिन अभी तक यह टीम कोई बड़ी सीरीज नहीं जीत पाई है. साल 2012 इनके पास एशिया कप जितने का मौका था. जो पाकिस्तान ने सिर्फ 2 रनो से जीता था. इसमें बांग्लादेश को खराब गेंदबाजी के कारण हार का सामना करना पड़ा था इस दौरान लगभग टीम के कई खिलाडी रोते हुए नजर आए थे.

3. युवराज सिंह 

ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी हार के बाद ही उनके आँख से आंशु निकलती है कई खिलाड़ी जीत के बाद भी ख़ुशी से रो देते हैं. ऐसा ही नजारा भारत को  2011 विश्व कप जितने के बाद मिला भारतीय टीम  28 सालो बाद विश्व कप जीती थी, और इतिहास रचा था. इसी दौरान युवराज सिंह खुशी मना रहे थे तो उनकी आंखों से आंसू भी टपक रहे थे.

4. विनोद कांबली

साल 1996 क्रिकेट कप में भारत को सेमीफाइनल मैच में हार का समना करना पड़ा क्योकि टीम इंडिया के खराब प्रदर्शन के कारण दर्शकों ने मैदान में हल्ला मचा दिया इस वजह से श्रीलंकाई टीम को विजेता घोषित किया गया इस कारण विनोद कांबली स्टेडियम में रोते हुए नजर आए थे.

5. इंजमाम उल हक 

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के सबसे बेहतरीन क्रिकेटर और पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक़ जिन्होंने 2007 में अपना आखरी मैच खेला था आखिरी मैच के दौरान जब यह खिलाड़ी मैदान छोड़ रहा था. तब उसके आँख में आंशु थे. बता दें 2007 विश्व कप में पाकिस्तान टीम ग्रुप लीग से ही बाहर हो गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here