देश के संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का 63वां महापरिनिर्वाण दिवस राष्ट्र ने उनका स्मरण कर मनाया। इस अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को बाबा साहब का नमन किया। राष्ट्रपति कोविंद ने बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर संसद भवन परिसर में उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उपराष्ट्रपति एमवेंकैया नायडू ने ट्वीट किया कि हमारे संविधान के शिल्पी, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, शिक्षाविद् तथा समाज विचारक डॉ. आंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। संकुचित भेदभाव से परे, हम एक मानवीय सौहार्दपूर्ण समाज के निर्माण का संकल्प लें।

पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि पूज्य बाबासाहब को उनके महापरिनिर्वाण दिवस पर कोटि-कोटि नमन। उपराष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री ने भी संसद भवन परिसर में बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें नमन किया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ट्वीट में कहा कि बाबासाहब आंबेडकर ने देश को एक प्रगतिशील संविधान देकर विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की नींव रखी। वह अपनी अंतिम सांस तक वंचितों और शोषितों की प्रखर आवाज बने रहे।

उन्होंने कहा कि प्रजातांत्रिक भारत के प्रणेता और सर्व-समावेशी संविधान के शिल्पकार बाबासाहब की शिक्षाएं आज भी हम सभी के लिए प्रेरक हैं। शाह ने कहा कि बाबासाहब के पास ज्ञान का अकूत भंडार था। उन्होंने सभी सुख और वैभव त्यागकर देश के पुर्निनर्माण के लिए खुद को खपा दिया। आज प्रधानमंत्री मोदी सबका साथ-सबका विकास के मंत्र के साथ बाबासाहब के सपनों को साकार करने के लिए प्रत्यनशील हैं। उन्होंने कहा कि आज बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस पर उन्हें कोटि-कोटि नमन। हमारे संविधान के शिल्पी, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, शिक्षाविद् तथा समाज विचारक डॉ. अम्बेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। संकुचित भेद-भाव से परे, हम एक मानवीय सौहार्दपूर्ण समाज के निर्माण का संकल्प लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here